Google+ Followers

शुक्रवार, 23 दिसंबर 2011

जुताई कार्य में प्रयुक्त नस्ल


अमृतमहल
  • यह मुख्यतः कर्नाटक में पाई जाती है।
  • हल चलाने व आवागमन के लिये आदर्श

हल्लीकर
  • मुख्यतः कर्नाटक के टुमकुर, हासन व मैसूर जिलों में पाई जाती है।

खिल्लार
  • मुख्यतः तमिलनाडु के कोयम्बटूर, इरोडे, नमक्कल, करूर व डिंडिगल जिलों में मिलते है।
  • हल चलाने व आवागमन हेतु आदर्श। विपरीत परिस्थितियों का सामना करते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें