Google+ Followers

शनिवार, 14 जनवरी 2012

वर्मी कम्पोस्ट का उपयोग

    वर्मी कम्पोस्ट का उपयोग
  • वर्मी कम्पोस्ट कों खेत तैयार करते समय मिट्टी में मिलायें |
  • खाद्यान्न फसलों में वर्मी कम्पोस्ट ५ टन प्रति हैक्टेयर की दर से उपयोग करें |
  • सब्जी वाली फसलों में वर्मी कम्पोस्ट का उपयोग १0-१२ टन प्रति हेक्टेयर करें |
  • फलदार वृक्षों में १ से १0 किग्रा. आयु व आवश्यकतानुसार तनें के चारों तरफ घेरा बनाकर डालें |
  • गमलों में १00 ग्राम प्रति गमले की दर से उपयोग करें |

    वर्मी कम्पोस्टिंग में विशेष सावधानियाँ
  • आंशिक रूप से सड़े कार्बनिक व्यर्थ पदार्थो का उपयोग ही करें क्योंकि इस कम्पोस्टिंग प्रकिया में तेजी आती है |
  • कम्पोस्टिंग बेड में मौसम के अनुसार नमी का स्तर बनाए रखें |
  • कम्पोस्टिंग बेड या गढ्ढे को घूप व वर्षा से बचायें |
  • कल्चर बेड को जूट की बोरी या पुआल से ढक कर रखें |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें